Coronavirus India News Updates: भारत में कोविड-19 के मरीजों की संख्या 8 लाख के पार

back

Coronavirus India News Updates: भारत में कोविड-19 के मरीजों की संख्या 8 लाख के पार


प्रतीकात्मक तस्वीर

Coronavirus Updates: भारत में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है. शुक्रवार को देश में संक्रमितों की संख्या 8 लाख के पार पहुंच गयी. देश में शुक्रवार को कोविड-19 के एक दिन में सर्वाधिक 26,506 नए मामले सामने आए.राजधानी में दिल्ली में भी इसका संक्रमण लगातार बढ़ रहा है. यहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 109140 हो गई है. पिछले 24 घंटों में यहां 2089 नए मामले आए सामने आए हैं. हालांकि अच्छी बात यह है कि पिछले 24 घंटों में 2468 मरीज ठीक भी हुए. वहीं मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,354 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 90 हजार से अधिक हो गई है

India Coronavirus (Covid-19) Updates in Hindi :-

बिहार में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 से दो और लोगों की मौत के बाद राज्य में अब तक इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 111 हो गयी है, जबकि संक्रमण के 352 नये मामलों के साथ कुल संक्रमित 14,330 हो गये हैं. स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.



Source link

back

नोएडा में मिले 87 कोरोना पॉज़िटिव मरीज, जिले में संक्रमित मरीजों को आंकड़ा 3298 पहुंचा


प्रतीकात्मक तस्वीर

नोएडा:

गौतमबुद्ध नगर के जिला प्रशासन के लिए शुक्रवार का दिन कुछ सुकून भरा रहा. एक ही दिन में 87 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. हालांकि 85 मरीजों ने कोरोना से जंग जीतकर हौसला भी दिया है. जिले में फिलहाल 1008 एक्टिव मरीज हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है. कोविड-19 के संक्रमण से जिले में अब तक 31 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार की शाम जारी आंकड़े के मुताबिक बीते 24 घंटों के दौरान गौतमबुद्ध नगर में 87 लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है. इसके साथ ही कुल संक्रमित मरीजों को आंकड़ा 3298 पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें

जिले में अब तक कोविड-19 के संक्रमण से 31 लोगों की मौत हो चुकी है. जिले के प्रशासन के लिए यह बड़ी राहत की खबर है कि हर दिन संक्रमित लोग कोरोना को हराकर अपने घरों को लौट रहे हैं. शुक्रवार को 85 लोग मौत को मात देकर अपने घर चले गए. इसके साथ ही जिले में स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 2221 हो गई है. जबकि 1008 लोगों का इलाज अभी नोएडा और ग्रेटर नोएडा के विभिन्न कोविड अस्पतालों में किया जा रहा है.

कोरोना के बढ़ते मामलो को देखते हुए इसके फैलते संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए शुक्रवार 10 जुलाई से 13 जुलाई पुनः लॉक डाउन लगा दिया गया है.ये लॉक डाउन 10 जुलाई रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह 5 बजे तक लॉक डाउन किया गया I इस दौरान सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बाज़ार, हाट, गल्ला मंडी और कार्यालय बन्द रहेंगे, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं.

इस बीच कोविड-19 के के कारण जनपद गौतम बुद्ध नगर में लगाई धारा 144 व लॉकडाउन का उल्लघन कराने के लिए पुलिस ने 200 चेकिंग बिन्दुओ पर 24 घंटे बैरियर लगाकर सघन जांच अभियान चलाया. इस दौरान पुलिस ने एक मुकदमा दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी पंकज कुमार ने बताया कि मंगलवार को 3501वाहनों की जांच की गयी और 1765 वाहनों का चालान काटा गया जबकि 4 वाहनों को जब्त कर लिया गया. उन्होंने बताया कि 85700 रूपया पुलिस ने जुर्माने के रूप में वसूला है.



Source link

back

Coronavirus:मुंबई में कोविड-19 के मरीजों की संख्या 90 हजार के पार


प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई :

मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,354 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 90 हजार से अधिक हो गई है. बृहन्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने यह जानकारी दी. निगम के अनुसार शहर में अब कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 90,149 हो गई है. इसके अलावा 73 और रोगियों की मौत के बाद मृतकों की संख्या 5,202 तक पहुंच गई है. बीएमसी ने कहा कि शुक्रवार को 73 रोगियों की मौत के जो मामले सामने आए, उनमें से 54 रोगियों को अन्य गंभीर बीमारियां भी थीं. निगम के अनुसार शुक्रवार को 2,183 रोगियों को छुट्टी मिल गई, जिसके साथ ही ठीक हो चुके मरीजों की संख्या 61,934 हो गई है.

यह भी पढ़ें

शहर में रोगियों की ठीक होने की दर 68 प्रतिशत है. मुंबई में अब भी 22,738 लोग कोविड-19 से पीड़ित हैं. इसके अलावा 905 नए संदिग्ध रोगियों को शहर के अस्पतालों में भर्ती किया गया है. गौरतलब है कि भारत में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. भारत में कोरोनावायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता ही जा रहा है. शुक्रवार की शाम यहां सक्रमितों का आंकड़ा 8 लाख के पार हो गया. पिछले 24 घंटे में 7,484 नए मामले सामने आने के साथ ही देश में अब संक्रमितों की कुल संख्या 8,01,286 हो गई है.

सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र में 2,30,599 मरीज सामने आ चुके हैं जबकि तमिलनाडु में मरीजों की कुल संख्या 1,30,261 हो चुकी है. बता दें कि शुक्रवार को नए मामले सामने आने के तमाम रिकॉर्ड भारत में टूट गए और 26 हजार से भी ज्यादा कोरोना के नए मरीज सामने आए. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शु‍क्रवार की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों के अंदर 26,506 नए मामले सामने आए हैं. यह एक दिन में आए सर्वाधिक मामले हैं. 

 



Source link

back

Coronavirus India News Updates: देश में कोरोना का कहर जारी, उत्तर प्रदेश में सरकार ने लगाया एक बार फिर लॉकडाउन


प्रतीकात्मक तस्वीर

Coronavirus Updates: देश में कोरोना संकट लगातार बढ़ता ही जा रहा है. गुरुवार को संक्रमितों की कुल संख्या 7,67,296 पर पहुंच गई जबकि 487 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 21,129 हो गयी. इधर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पूरे राज्य में एक बार फिर लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया है. उत्तर प्रदेश में 10 जुलाई यानी शुक्रवार रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन लागू किया जाएगा. वहीं बिहार की राजधानी पटना में भी सरकार ने लॉकडाउन लागू कर दिया है. देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तेजी देखी जा रही है.  

India Coronavirus (Covid-19) Updates in Hindi :-

गुरुवार को उत्तराखंड में 47 नए कोविड-19 पॉजिटिव मामले दर्ज़ किए गए. इसी के साथ कुल मामलों की संख्या 3,305 हो गई है जिसमें 2,672 रिकवर हो गए हैं. जबकि 558 मामले सक्रिय हैं अब तक राज्य में  46 लोगों की कोरोना से मौत हुई है. 



Source link

back

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा-आश्रय गृहों में रह रहे मानसिक रुप से बीमार बेघरों की कोविड जांच के लिये आईडी प्रूफ की जरूरत क्यों?


दिल्ली हाईकोर्ट ने समाधान तलाशने के लिए आईसीएमआर को 24 जुलाई तक का दिया समय

नई दिल्ली:

दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को आईसीएमआर और आप सरकार से कहा कि कई मानसिक रुप से बीमार बेघर व्यक्ति आश्रय गृहों में हैं और उनका पता लगाया जा सकता है, ऐसे में कोविड-19 की जांच के लिए इस तरह के लोगों के पहचान पत्र या फोन नंबर की कोई जरूरत नहीं है. मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ ने कहा कि हमें ऐसे लोगों को छोड़ना नहीं चाहिए और सड़कों पर रहे रहे मानसिक रूप से बीमार बेघर लोगों का भी ध्यान रखना चाहिए.पीठ ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल चेतन शर्मा से कहा कि वह अधिकारियों से सलाह-मशविरा करें कि इस पहलू को हल करने के लिए क्या किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें


पीठ ने कहा कि एक बार इसका निदान हो जाए तो यह सभी अस्पतालों को प्रेषित किया जाना चाहिए. अदालत ने इसका समाधान तलाशने के लिए आईसीएमआर को 24 जुलाई तक का वक्त दिया है और हलफनामे के जरिए अदालत को सूचित करने को कहा है. मानव व्यवहार और संबद्ध विज्ञान संस्थान (आईएचबीएस) ने वकील तुषार सन्नू के जरिए अदालत को सूचित किया था कि उसके यहां भर्ती मानसिक रूप से बीमार लोगों की कोरोना वायरस की जांच करने में दो बाधाएं हैं. इसके बाद अदालत का आदेश आया.


सन्नू ने कहा कि 19 जून के आईसीएमआर के परामर्श के अनुसार, जिस व्यक्ति की कोविड-19 की जांच होनी है, उसे सरकार द्वारा जारी पहचान प्रमाण देना होगा और उसके पास वैध फोन नंबर होना चाहिए ताकि उसका और उसके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा सके. उन्होंने कहा कि अधिकतर मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति दोनों में से कोई भी शर्त पूरी नहीं करते हैं, लिहाजा उनकी कोरोना वायरस की जांच नहीं की जा सकती है. आईएचबीएएस ने सुझाव दिया कि आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों में मानसिक रूप से बीमार बेघर लोगों की परेशानी के मद्देनजर उचित संशोधन किये जाएं.

उच्च न्यायालय, वकील गौरव कुमार बंसल की याचिका पर सुनवाई कर रहा था.

उन्होंने अपनी याचिका में राष्ट्रीय राजधानी में मानसिक रूप से बीमार बेघर लोगों की कोविड-19 जांच के लिए आईसीएमआर और दिल्ली सरकार को दिशा-निर्देश जारी करने के लिए निर्देश देने का अनुरोध किया है. दिल्ली सरकार ने अपने हलफनामे में कहा है कि वह आईसीएमआर के 19 जून के परामर्श का पालन कर रही है.

VIDEO:प्लाज़्मा लेने वाले ज़्यादा, देने वाले कम: अब दिल्ली प्लाज़्मा बैंक ने बनाई ये नई व्यवस्था!



Source link

back

दिल्ली सरकार ने कोरोना से निपटने के लिए जारी किया ‘रिवाइज़्ड कोविड रिस्पॉन्स प्लान’


दिल्ली सरकार ने बनाया ‘रिवाइज़्ड कोविड रिस्पॉन्स प्लान’

नई दिल्ली:

दिल्ली में कोरोना का कहर जारी है. सरकार की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को दिल्ली में कोरोना के 2033 नए मामले दर्ज किए गए और इस दौरान 48 मरीजों की जान चली गई. इधर सरकार ने कोरोना के सर्विलांस और रिस्पॉन्स को और मज़बूत करने के लिये बुधवार को संशोधित ‘रिवाइज़्ड कोविड  रिस्पॉन्स प्लान’ (Revised Covid Response Plan) जारी किया है. रिवाइज़्ड प्लान में स्पेशल सर्विलांस ग्रुप के तहत ड्राइवर, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, डोमेस्टिक हेल्पर, मैकेनिक, ज़रूरी सामान की डिलीवरी वाले लोगों की स्क्रीनिंग और सर्विलांस से जुड़े निर्देश दिये गए हैं. इसके साथ ही आइसोलेटेड मामले वाले इलाकों और हाई रिस्क ग्रुप के सर्विलांस के आदेश जारी किये गये हैं.

यह भी पढ़ें

दिल्ली रिवाइज़्ड कोविड रिस्पांस प्लान के मुताबिक अलग-अलग श्रेणी के लिये एसओपी जारी की गई हैं-

A – आइसोलेटेड मामले वाले इलाके-

डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस यूनिट (DSU) ऐसे सभी इलाकों की विस्तृत जानकारी इकठ्ठा करेगी जहां आइसोलेटेड मामले सामने आ रहे हैं. इसके लिये डेली क्लस्टर रिपोर्ट, लाइन लिस्ट और ज्योग्राफिकल मैपिंग का इस्तेमाल किया जा सकता है. प्रभावित इलाकों में सख्त सर्विलांस के लिये इन घटकों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

  • ज़्यादा और प्रभावी कांटेक्ट ट्रेसिंग, जिसे 72 घन्टे में पूरा किया जाए
  • एक्सेस कोरोना ऐप के ज़रिए SARI/ILI केस का हाउस टू हाउस सर्वे होगा.
  • चिन्हित इलाकों में हाई रिस्क ग्रुप (HRGs) और स्पेशल सर्विलांस ग्रुप (SSGs) के तहत आने वाले लोगों की लिस्टिंग की जाएगी.
  • पिछले 15 दिनों में पॉजिटिव मामलों के सम्पर्क में आने वाले सभी प्राइमरी कॉन्टैक्ट का सख़्त क्वारंटाइन

B हाई रिस्क ग्रुप (HRGs)- 60 साल से अधिक आयुवर्ग और गंभीर बीमारियों (co-morbidites) से ग्रसित लोग

  • एचआरजी लिस्टिंग के तहत आने वाले लोग और उनके सीधे संपर्क वाले लोगों की स्क्रीनिंग और मेडिकल रिकॉर्ड मेंटेन  किये जाएंगे.
  • एचआरजी के डायरेक्ट कांटेक्ट अगर कोरोना पॉजिटिव पाये जाते हैं तो फौरन उनके आइसोलेशन की व्यवस्था की जायेगी हालांकि एचआरजी को हेल्थ इंस्टीट्यूशन ना विजिट करने की सलाह दी जाती है. लेकिन अगर वो दिल्ली सरकार की किसी डिस्पेंसरी, हॉस्पिटल, मैटरनिटी सेंटर या अन्य हेल्थ फेसिलिटी को विज़िट करते हैं तो ICMR गाइडलाइंस के तहत उनका टेस्ट कराना होगा और कोविड सर्विलांस प्रोटोकॉल फॉलो करना होगा.

C स्पेशल सर्विलांस ग्रुप SSGs

स्पेशल सर्विलांस ग्रुप में इन लोगों को रखा गया है:

  • रिक्शा, ऑटो, टैक्सी वाले और सामान वाहक लॉरी वालों को रखा गया है.
  • मेड और डेली वर्कर्स जैसे- पलम्बर्स, इलेक्ट्रिशियन, कारपेंटर, मैकेनिक आदी.
  • खाना और ज़रूरी सामान जैसे ग्रॉसरी, किराना, पार्सल और पोस्ट सप्लाई करने वाले लोग.
  • जो इसमें शामिल नहीं हैं- दुकानें, हॉस्पिटल, रेस्तरां, जिम, स्विमिंग पूल, मॉल, सामाजिक सभा, रैली, त्योहार.
  • MCD, ट्रांसपोर्ट, पुलिस, RWA, DDA की मदद से सभी स्पेशल सर्विलांस ग्रुप की लिस्टिंग की जाएगी.
  • सभी जिलों में जहां भी संभव हो स्पेशल सर्विलांस ग्रुप की स्क्रीनिंग शुरू करने की कोशिश करनी होगी. जिन जगहों पर स्पेशल सर्विलांस ग्रुप ज़्यादा इकठ्ठा होते हैं ऐसे पॉइंट्स को कवर करना अनिवार्य होगा. अगर कोई भी ILI/ SARI केस पाया जाता है तो उसे स्टैंडर्ड हेल्थ प्रोटोकॉल के अनुसार डील किया जाएगा.
  • अगर स्पेशल सर्विलांस ग्रुप में कोई पॉजिटिव केस पाया जाता है तो कोविड प्रोटोकॉल के तहत उसकी देखभाल की जाएगी. उसके घर और काम की जगह को फौरन डिसइंफेक्ट और सैनिटाइज कराया जाएगा और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और सर्विलांस की प्रक्रिया की जाएगी. सीधे संर्पक में आने वाले और प्राइमरी कॉन्टेक्ट को ट्रेस करके 15 दिन के सख्त क्वारन्टीन में रहना होगा.
  • स्पेशल सर्विलांस ग्रुप के इकठ्ठा होने की जगह को चिन्हित करके वहां व्यापक स्तर पर रेगुलर डिसइंफेक्शन का काम कराना होगा.
  • दिल्ली सरकार की किसी डिस्पेंसरी, हॉस्पिटल, मैटरनिटी सेंटर या अन्य हेल्थ फेसिलिटी को विज़िट करने वाले स्पेशल सर्विलांस ग्रुप को ICMR गाइडलाइंस के तहत टेस्ट कराना होगा और कोविड सर्विलांस प्रोटोकॉल फॉलो करना होगा.
  • जिन स्पेशल सर्विलांस ग्रुप के पास निजी या कॉमर्शियल वाहन है उन्हें अपने वाहनों और काम करने के औजारों को रेगुलर डिसइंफेक्ट और सैनिटाइज कराने के लिए प्रोत्साहित करना होगा.



Source link

back

Coronavirus India News Updates: देश में कोरोना का कहर, महाराष्ट्र में 278 और पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित हुए


प्रतीकात्मक तस्वीर

Coronavirus Updates: देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में कोरोना वायरस से करीब 7 लाख 42 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं वहीं, अब तक  20 हजार 600 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़कर 1,04,864 तक पहुंच गया है. महाराष्ट्र में पुलिसकर्मियों पर भी कोविड का कहर देखने को मिल रहा है. राज्य में 278 पुलिसकर्मियों में कोविड-19 की पुष्टि होने से पुलिस बल में संक्रमित कर्मियों की संख्या 5,713 हो गई है.

India Coronavirus (Covid-19) Updates in Hindi :-

दिल्ली सरकार अपनी संशोधित ”कोविड प्रतिक्रिया योजना” के तहत अब दिहाड़ी मजदूरों, घरेलू सहायकों, ऑटो चालकों और सब्जी विक्रेताओं का ब्योरा रखने के साथ ही उनकी जांच शुरू करेगी. एक आधिकारिक आदेश में यह जानकारी दी गई है.



Source link

back

प्लाज़्मा लेने वाले ज़्यादा, देने वाले कम: अब दिल्ली प्लाज़्मा बैंक ने बनाई ये नई व्यवस्था


दिल्ली प्लाज़्मा बैंक में अब नई व्यवस्था

नई दिल्ली:

दिल्ली में देश के पहले प्लाज्मा बैंक को खुले एक हफ्ता हो चुका है. गुरुवार 2 जुलाई को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दक्षिण दिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में दिल्ली प्लाज्मा बैंक का उद्घाटन किया था. लेकिन इस 1 हफ्ते के दौरान प्लाज्मा बैंक में प्लाज्मा लेने वालों की संख्या ज्यादा रही जबकि प्लाज्मा देने वालों की कम. ऐसे में प्लाज्मा बैंक में प्लाज़्मा के स्टॉक का संकट ना हो इसके लिए प्लाज्मा बैंक को चलाने वाले अस्पताल इंस्टिट्यूट ऑफ़ लीवर एंड बिलिअरी साइंसेज ने नई व्यवस्था बनाई है.

यह भी पढ़ें

नई व्यवस्था के तहत अब जिस भी अस्पताल को अपने कोरोना मरीज़ के लिए प्लाज्मा चाहिए होगा उसको अपने अधिकृत व्यक्ति या मरीज़ के परिवार वालों के हाथों जरूरी दस्तावेजों के साथ प्लाज्मा डोनर भी भेजना होगा. प्लाज्मा डोनर किसी भी ब्लड ग्रुप का हो सकता है. लेकिन प्लाज्मा ढूंढो भेजने की पूरी जिम्मेदारी अस्पताल की होगी. जब प्लाज्मा डोनर प्लाज्मा बैंक में अपना प्लाज्मा डोनेट कर देगा उसके बाद अस्पताल द्वारा अधिकृत व्यक्ति या मरीज के परिवार वालों को वह प्लाज्मा दिया जाएगा जिसकी उसको दरकार है.


इस बारे में ILBS अस्पताल के निदेशक डॉ एसके सरीन ने एनडीटीवी को बताया कि ‘ प्लाज्मा लेने वाले अस्पतालों के लिए अब रिप्लेसमेंट डोनर देना जरूरी है. जो अस्पताल प्लाज्मा बैंक से प्लाज्मा लेने के लिए किसी को भेजेगा उसको साथ मे प्लाज़्मा डोनर भी भेजना होगा. उसी अस्पताल की जिम्मेदारी होगी कि वह डोनर को भेजें जिससे प्लाज़्मा बैंक में प्लाज्मा स्टॉक जमा हो सके’.

NDTV से बातचीत में डॉ सरीन ने इस बात पर चिंता जाहिर की कि लोग बड़ी संख्या में प्लाज्मा डोनेट करने नहीं पहुंच रहे हैं. डॉ सरीन ने कहा ‘ 1962 में जब चीन से लड़ाई हुई तब नेहरू जी ने कहा कि लोग खून दें और नेहरू जी के इस आवाहन के बाद खून देने वालों की लाइनें लग गई लेकिन आज वह लोग कहां हैं? हज़ारों लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं लेकिन लोग अपने मन से प्लाज्मा डोनेट करने कहां आ रहे हैं? मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हाथ जोड़कर अपील कर रहे हैं. लोगों को समझना होगा कि प्लाज्मा डोनेट करना भी देशभक्ति का परिचायक है’.

ILBS अस्पताल में ब्लड ट्रांसफ्यूजन डिपार्टमेंट की प्रमुख  डॉ मीनू वाजपेई ने एनडीटीवी को बताया कि ‘अभी तक प्लाज्मा बैंक से 100 से ज्यादाा मरीजों के लिए प्लाज्मा जारी किया जा चुका है जबकि लगभग इतनेे ही  प्लाज्मा डोनर अभी तक प्लाज्मा बैंक में प्लाज्मा डोनेट करने पहुंचे हैं’.

डॉ मीनू वाजपेयी ने बताया कि प्लाज्मा बैंक में प्लाज्मा का स्टॉक मेंटेन करने के लिए हम एक तरफ वॉलिंटियर प्लाज्मा डोनर को फोन करके उनसे प्लाज्मा डोनेट करने को कहते हैं तो दूसरी तरफ हॉस्पिटल से रिप्लेसमेंट डोनर के लिए कहा गया है. रिप्लेसमेंट डोनर असल में उस अस्पताल के डिस्चार्ज हो चुके मरीज होते हैं जिनको अस्पताल प्लाज्मा डोनेट करने के बारे में समझा कर प्लाज्मा डोनेट करने के लिए भेजता है. हमारे यहां रोजाना लगभग आधे प्लाज्मा डोनर स्वैच्छिक रूप से आते हैं जबकि आधे रिप्लेसमेंट डोनर होते हैं. अस्पतालों के लिए रिप्लेसमेंट डोनर भेजना अनिवार्य किया गया है ताकि स्टॉक मेंटेन किया जा सके’.

VIDEO:प्लाज्मा बैंक: प्लाज्मा डोनर नहीं मिलने से बढ़ती मुश्किलें



Source link