Ankita Lokhande ने सुशांत सिंह राजपूत के लिए किया ट्वीट, लिखा- जहां भी हो मुस्कराते रहो…

Ankita Lokhande ने सुशांत सिंह राजपूत के लिए किया ट्वीट, लिखा- जहां भी हो मुस्कराते रहो...


अंकिता लोखंडे ने सुशांत सिंह राजपूत के लिए लिखा मैसेज

नई दिल्ली:

अंकिता लोखंडे (Ankita Lokhande) ने अपने सोशल मीडिया पर दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के लिए एक मैसेज लिखा है. अंकिता लोखंडे ने अपने इंस्टाग्राम एकाउंट पर एक फोटो शेयर की है, जिसमें यीशु के साथ ही ओम की फोटो नजर आ रही है. यही नहीं अंकिता लोखंड ने दीया भी जला रखा है. इस तरह अंकिता लोखंडे ने एक बार फिर सुशांत सिंह राजपूत को लेकर अपनी भावनाओं को सोशल मीडिया पर रखा है. 

यह भी पढ़ें

अंकिता लोखंडे (Ankita Lokhande) ने इस फोटो के साथ सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के लिए मैसेज लिखा है, ‘उम्मीद, दुआ और ताकत!!! मुस्कराते रहो, जहां भी तुम हो.’ इस तरह अंकिता लोखंडने ने सुशांत सिंह राजपूत के सदा मुस्कराने की दुआ मांगी है. अंकिता लोखंडे का यह ट्वीटसोशल मीडाया पर खीब वायरल हो रहा है.

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ने टीवी सीरियल ‘किस देश में है मेरा दिल’ से अपने करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद वह जी टीवी पर आने वाले सीरियल ‘पवित्र रिश्ता’ में भी दिखाई दिए थे. इसके बाद झलक दिखला जा में अपने अंदाज से लोगों का दिल जीता था. इसके बाद से ही उन्होंने फिल्मों की दुनिया में अपना कदम रखा. सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्म काय पो चे से बॉलीवुड में डेब्यू किया था. उन्होंने फिल्म ‘काय पो छे’ से बॉलीवुड में कदम रखा था. उनको सबसे ज्यादा लोकप्रियता महेंद्र सिंह धोनी की बायोपिक करने पर मिली थी.





Source link

Deepika Padukone को पसंद आया फैन के मोबाइल का बैक कवर, बोलीं- अपना कवर दे दो ना…देखें Video

Deepika Padukone को पसंद आया फैन के मोबाइल का बैक कवर, बोलीं- अपना कवर दे दो ना...देखें Video


दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) को पसंद आया फैन का मोबाइल कवर

खास बातें

  • दीपिका पादुकोण को पसंद आया फैन का मोबाईल कवर
  • एक्ट्रेस ने कहा कि अपना कवर दो ना…
  • दीपिका पादुकोण का पुराना वीडियो हुआ वायरल

नई दिल्‍ली:

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) अपने अंदाज के लिए खूब जानी जाती हैं. वह अकसर सोशल मीडिया अपनी फिल्मों के साथ-साथ अपने स्टाइल के लिए भी चर्चा में रहती हैं. एक्ट्रेस का एक पुराना वीडियो सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रहा है. इस वीडियो में एक्ट्रेस फैन से उनके फोन का बैक कवर मांगती हुई दिखाई दे रही हैं. उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर उनके फैनपेज ने शेयर किया है, जो सबका खूब ध्यान खींच रहा है. वीडियो में एक्ट्रेस का सादगी भरा अंदाज भी लोगों को खूब पसंद आ रहा है. 

यह भी पढ़ें

दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) के इस वायरल वीडियो में नजर आ रहा है कि वह जैसे ही एंट्री करती हैं, फोटोग्राफर्स उनकी फोटो और वीडियो बनाना शुरू कर देते हैं. इसी बीच दीपिका पादुकोण की नजर फैन के मोबाइल के बैक कवर पर पड़ती है. दीपिका को वह कवर पसंद आ जाता है और वह फैन से कहती हैं, “अपना कवर दो ना…” वीडियो में एक्ट्रेस ने कहा कि मैं ले सकती हूं क्या कवर को. इसपर फैन ने कहा कि ले लीजिए. इसके बाद फैन ने दीपिका से कहा कि आपके जन्मदिन पर देता हूं. वीडियो में दीपिका हंसते हुए चली जाती हैं. इसमें एक्ट्रेस स्काईब्लू और व्हाइट चैक ड्रेस में नजर आ रही हैं, जिसमें उनका लुक भी जबरदस्त लग रहा है. 

वर्क फ्रंट की बात करें तो आखिरी बार दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) फिल्म ‘छपाक’ में नजर आई थीं, हालांकि, यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाई. लेकिन अब जल्द ही दीपिका रणवीर सिंह (Ranveer Singh) के साथ फिल्म ’83’ में नजर आएंगी. 1983 में क्रिकेट वर्ल्ड कप में मिली भारत की जीत की यह कहानी जल्द ही बड़े पर्दे पर दर्शकों का मनोरंजन करती दिखेगी. दीपिका शकुन बत्रा की अनटाइटल्ड फिल्म की शूटिंग शुरू करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. साथ ही, अभिनेत्री “द इंटर्न” के आधिकारिक रीमेक में भी नजर आएंगी, जिसकी शूटिंग अगले साल से शुरू की जाएगी.

 





Source link

COVID-19 अस्पतालों के वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में नीतीश सरकार, किए ये बदलाव

COVID-19 अस्पतालों के वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में नीतीश सरकार, किए ये बदलाव


बिहार में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • बिहार में तेजी से फैलता कोरोनावायरस
  • बुधवार को मिले 1500 से ज्यादा संक्रमित
  • संक्रमितों की संख्या 30 हजार के पार

पटना:

बिहार में कोरोनावायरस (Bihar Coronavirus Report) के संक्रमण से लोगों का हाल बेहाल हैं. राज्य में जहां बुधवार को एक बार फिर 1500 से ज्यादा नए मरीजों की पुष्टि हुई, वहीं अब राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 30,000 से अधिक हो गई हैं. हालांकि राज्य सरकार का दावा है कि रिकवरी रेट 65 प्रतिशत है. इस बीच अब हर दिन मीडिया में राज्य के कोविड अस्पतालों में अव्यवस्था और खराब स्थिति के वीडियो वायरल होने के बाद आखिरकार बिहार सरकार हरकत में आई है.

यह भी पढ़ें

बुधवार को सबसे पहले पटना के सबसे बड़े कोविड अस्पताल (COVID-19 Hospital) नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में जहां एक ओर 24 घंटे एक पूरे अस्पताल के प्रबंधन के लिए अधिकारियों की टीम लगाई गई है, जिसमें कुछ ट्रेनिंग कर रहे आईपीएस अधिकारियों के अलावा राज्य सरकार के प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहेंगे. उसके अलावा कोविड वार्ड में वरिष्ठ डॉक्टर का राउंड और उनकी उपस्थिति अनिवार्य कर दी गई है, लेकिन उन्हें 8 से 12 घंटे की ड्यूटी के बदले 4 से 6 घंटे ही इन वॉर्ड में राउंड देना होगा. ऐसा पीपीई किट पहनकर काम करने में कठिनाई के मद्देनजर किया गया है.

इसके अलावा एनएमसीएच में जहां एक ओर 165 बेड पर पाइप लाइन के माध्यम से ऑक्सीजन की सप्लाई की व्यवस्था की गई है, वहीं पीएमसीएच को 25 और अतिरिक्त वेंटिलेटर दिए गए हैं. हालांकि राज्य सरकार का दावा है कि एक साथ सभी जिलों के अलावा कई अनुमंडल अस्पताल में ऐंटिजेन से जांच शुरू कर दी गई है. लेकिन जांच के लिए सैंपल की रिपोर्ट आने में अभी भी राज्य में कई दिन लग जाते हैं.

राज्य सरकार ने कोरोना वॉर्ड मे घंटों मृत मरीजों के अंतिम संस्कार के लिए भी अब पटना के बांस घाट पर 24 घंटे अंतिम संस्कार कराए जाने का इंतजाम किया है. इसके लिए राज्य सरकार का दावा है कि एनएमसीएच को अतिरिक्त दो शव वाहन भी उपलब्ध कराए गए हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सबसे ज्यादा फजीहत इन शवों के अंतिम संस्कार में विलम्ब के कारण हुई थी.

VIDEO: पीपीई किट पहनकर काम करने के घंटे कम किए जाएं : AIIMS नर्सिंग यूनियन



Source link

बिहार के दस जिलों की छह लाख से अधिक आबादी बाढ़ से प्रभावित

बिहार के दस जिलों की छह लाख से अधिक आबादी बाढ़ से प्रभावित


बिहार में बाढ़ का कहर (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना:

बिहार के 10 जिलों की करीब छह लाख 36 हजार आबादी बाढ़ से प्रभावित है और 18,612 लोगों को सुरक्षित ठिकानों तक पहुंचाया गया है. आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक प्रदेश के 10 जिलों सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चम्पारण, पश्चिम चंपारण एवं खगड़िया जिले के 55 प्रखंडों के 282 पंचायतों की करीब छह लाख 36 हजार आबादी बाढ़ से प्रभावित है. वहां से सुरक्षित निकाले गए 18,612 लोग दस राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं .

यह भी पढ़ें

जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बागमती नदी सीतामढी, मुजफ्फरपुर एवं दरभंगा में, बूढी गंडक मुजफ्फरपुर एवं समस्तीपुर में, कमला बलान मधुबनी में, लालबकिया पूर्वी चंपारण में, अधवारा सीतामढी में, खिरोई दरभंगा में और महानंदा किशनगंज एवं पूर्णिया जिला में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है . जल संसाधन मंत्री संजय झा ने कहा कि जुलाई महीने में भारी बारिश के बावजूद सभी तटबंध सुरक्षित हैं तथा तकनीक के उपयोग और विभाग की अतिरिक्त सतर्कता के कारण तटबंध पर उत्पन्न खतरों को समय रहते टाला जा सका है.

बिहार में बाढ़ के खतरे के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 21 टीमों को राज्य के विभिन्न संवेदनशील जिलों में तैनात किया गया है. एनडीआरएफ की 9वीं बटालियन के कमान्डेंट विजय सिन्हा ने बताया कि बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की माँग पर एनडीआरएफ की 21 टीमों को प्रदेश के 12 जिलों में तैनात किया गया है. इस बीच बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने दरभंगा और मधुबनी जिलों के बाढ प्रभावित इलाकों का बुधवार को दौरा किया. तेजस्वी ने संवाददाताओं से “यह सरकार की जिम्मेदारी है कि बाढ पीडितों के आवास एवं भोजन की व्यवस्था करे तथा बाढ़ के कारण हुए उनके नुकसान को देखते हुए उनकी आर्थिक मदद करनी चाहिए थी.”

वहीं बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने तेजस्वी पर प्रहार करते हुए आरोप लगाया, ”जिनके माता-पिता के राज में 90 करोड़ रुपये का बाढ़ राहत घोटाला हुआ, वे कुछ बाढ़ पीड़ितों को एक वक्त का भोजन कराते हुए फोटो खिंचवा कर राजद राज के पाप धोने की कोशिश कर रहे हैं.” सुशील ने ट्वीट कर तेजस्वी पर प्रहार करते हुए आरोप लगाया, ”उन्हें कैग की रिपोर्ट पढ़नी चाहिए, जिसमें खुलासा किया गया है कि बिहार को केंद्र सरकार से मिली बाढ़ सहायता की 90 करोड़ की राशि का फर्जीवाड़ा कैसे हुआ था. ” 

 

VIDEO:नेपाल से आ रहे पानी के चलते बिहार में बाढ़ ने लिया खतरनाक रूप : NDRF महानिदेशक

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

उत्तर प्रदेश के BJP विधायक पप्पू भरतौल ने पत्र लिखकर कहा- टॉप 10 कुख्यात पुलिसकर्मियों की भी लिस्ट जारी हो

उत्तर प्रदेश के BJP विधायक पप्पू भरतौल ने पत्र लिखकर कहा- टॉप 10 कुख्यात पुलिसकर्मियों की भी लिस्ट जारी हो


बीजेपी विधायक ने टॉप टेन कुख्यात पुलिसकर्मियों की लिस्ट जारी करने की मांग की (फाइल फोटो)

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के बरेली से बीजेपी विधायक राजेश कुमार मिश्रा (पप्पू भरतौल)ने बरेली ज़ोन के डीआईजी (DIG) को पत्र लिख कर मांग की है कि टॉप टेन कुख्यात अपराधियों के साथ टॉप टेन कुख्यात पुलिस वालों की सूची निकाली जाए. विधायक भरतौल ने अपने खत में लिखा है “बरेली ज़िले में जो पुलिस वाले भ्रष्टाचार कर रहे हैं,तस्करी कर रहे हैं,सट्टे और जुए के अड्डे चलवा रहे हैं,वेश्यावृति करवा रहे हैं उन लोगों की टॉप टेन की लिस्ट बनाई जाए.” भरतौल ने NDTV से कहा कि  “कुख्यात पुलिस वालों की हरकतों से सरकार की छवि खराब होती है. इसलिए जहां एक तरह टॉप टेन कुख्यात अपराधियों की लिस्ट लगे वहीं बग़ल में टॉप टेन कुख्यात पुलिस वालों की भी लिस्ट लगाई जाए. क्योंकि यह लोग हमारी सरकार को बदनाम करते हैं.”

d927ru6g

भरतौल ने अपनी चिट्ठी में डीआईजी राजेश पांडेय की तारीफ की है और लिखा है कि वो चाहते है की सभी पुलिस वाले उनकी तरह हों. गौरतलब है कि विकास दुबे के मामले के बाद भी उत्तर प्रदेश में कई पुलिस वालों पर सवाल खड़े हुए थे. जिसके बाद पुलिस विभाग के अंदर रहने वाले गलत लोगों पर कार्रवाई की मांग की जा रही है. 

यह भी पढ़ें

VIDEO: खबरों की खबर : क्या यूपी में कानून-व्यवस्था ने दम तोड़ा ?



Source link

रेहड़ी, पटरी लगाने वाले छोटे कारोबारियों को अब मिलेगा ‘आत्मनिर्भर निधि’ योजना का लाभ

रेहड़ी, पटरी लगाने वाले छोटे कारोबारियों को अब  मिलेगा ‘आत्मनिर्भर निधि’ योजना का लाभ


प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

रेहड़ी, पटरी लगाने वाले छोटे कारोबारी अब ‘आत्मनिर्भर निधि’ योजना के तहत 10,000 रुपये तक का कर्ज देशभर में फैले 3.8 लाख साझा सेवा केन्द्रों (सीएससी) केन्द्रों के जरिये ले सकेंगे. सरकार की डिजिटल और ई- गवर्नेंस सेवा इकाई सीएससी ई- गवर्नेंस सविर्सिज इंडिया लिमिटेड ने बुधवार को यह कहा.प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना पूरी तरह से आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा वित्तपोषित है. इस योजना के तहत रेहड़ी, पटरी और खोमचा लगाने वाले छोटे कारोबारियों को दस हजार रुपये तक की कार्यशील पूंजी उपलब्ध कराई जाती है.

यह भी पढ़ें


योजना के तहत कर्ज लेने वाले इन उद्यमियों को कर्ज का नियमित रूप से भुगतान करने प्रोत्साहन भी दिया जाता है और डिजिटल लेनदेन पर पुरस्कृत भी किया जाता है. योजना से रेहड़ी पटरी वालों को औपचारिक स्वरूप मिलेगा और इस क्षेत्र के लिये नये अवसर खुलेंगे. सीएससी योजना के तहत इन छोटे कारोबारियों का पंजीकरण करने में मदद करेगी. आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय में संयुक्त सचिव संजय कुमार ने कहा कि योजना के तहत शहरी क्षेत्र के रहड़ी पटरी वालो को दस हजार रुपये तक की कार्यशील पूंजी उपलब्ध होगी.

यह पूंजी एक साल की अवधि के लिये होगी और इसका मासिक किस्तों में भुगतान करना होगा. उन्होंने कहा कि इसके लिये कर्ज देने वाले संस्थान द्वारा कोई गारंटी नहीं ली जायेगी. ‘‘सभी कारोबारियों को डिजिटल लेनदेन करना होगा, उन्हें इसमें कैशबैंक की पेशकश मिलेगी.” कुमार ने कहा कि योजना के लिये सिडबी को क्रियान्वयन एजेंसी नियुक्त किया गया है और अब तक इसकसे तहत दो लाख आवेदन प्राप्त हुये हैं जबकि 50 हजार कारोबारियों को कर्ज मंजूर किया गया है.

VIDEO: ऊर्जा क्षेत्र में ‘आत्मनिर्भर’ होगा भारत

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

पाकिस्तान में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 2,67,428 हुई

back


प्रतीकात्मक तस्वीर

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 1,332 नए मामले सामने आने के साथ ही बुधवार तक 2,67,428 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोविड-19 से 38 लोगों की मौत होने के साथ ही देश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 5,677 पर पहुंच गई है. देश में अब तक 2,10,468 मरीज उपचार के बाद संक्रमण मुक्त हुए हैं. लेकिन कोविड-19 के 1,436 मरीजों की हालत फिलहाल नाजुक बनी हुई है.मंत्रालय ने बताया कि पाकिस्तान में अब तक 2,67,428 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.

यह भी पढ़ें

हीं भारत में भी कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों  (India Coronavirus) में किसी तरह की कोई राहत नहीं दिख रही है. हर रोज़ देश में 37-38 हज़ार नए मरीज़ सामने आ रहे हैं. अब तक का रिकॉर्ड 40,000 मामलों का रहा है. 22 जुलाई की सुबह तक देश में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस संक्रमण के 37,724 नए मामले सामने आए हैं. इसके साथ ही अब देश में कुल दर्ज मरीज़ों की संख्या 11,92,915 हो चुकी है. यानी कि हम जल्द ही 12 लाख का आंकड़ा भी पार कर लेंगे. पिछले 24 घंटों में 648 मौतें हुई हैं, जिसके साथ अब तक हुई कुल मौतों का आंकड़ा 28,732 पर पहुंच गया है.

VIDEO:कोरोना वॉरियर्स ने शुरू किया मास्क मूवमेंट



Source link

PLA की पहल पर शुरू हालिया झड़पें CCP के ‘अस्वीकार्य व्यवहार’ का एक और उदाहरण : पोम्पियो

PLA की पहल पर शुरू हालिया झड़पें CCP के ‘अस्वीकार्य व्यवहार’ का एक और उदाहरण : पोम्पियो


अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (फाइल फोटो)

वॉशिंगटन:

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में हाल ही में भारत के खिलाफ चीन की सेना द्वारा ‘‘शुरू की गई” झड़पें चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) के ‘‘अस्वीकार्य व्यवहार” का नवीनतम उदाहरण है. उन्होंने टिकटॉक सहित 59 चीनी ऐप को प्रतिबंधित करने के भारत के निर्णय की प्रशंसा की और कहा कि ये भारत के लोगों के लिए ‘‘सुरक्षा खतरा” हैं.पोम्पियो ने कहा, ‘‘यह महत्वपूर्ण है कि हमारे जैसा लोकतंत्र मिलकर काम करे, खासकर तब जब चीनी कम्युनिस्ट पार्टी स्पष्ट रूप से चुनौतियां पेश कर रही है.”

यह भी पढ़ें


उन्होंने भारत को विश्वास की कसौटी पर खरा उतरे गिने चुने देशों में एक बताते हुए कहा कि नयी दिल्ली एक महत्वपूर्ण साझेदार है और राष्ट्रपति ट्रंप की विदेश नीति में एक अहम स्तंभ है. उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें इस बात का जिक्र करते हुए खुशी हो रही है कि भारत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में और वैश्विक स्तर पर अमेरिका के रक्षा एवं सुरक्षा साझेदार के रूप में उभर रहा है. ”

पोम्पियो ने कहा, ‘‘हमारी आधारभूत परियोजनाएं, हमारी आपूर्ति श्रृंखला, हमारी संप्रभुता और हमारे लोगों के स्वास्थ्य एवं सुरक्षा सभी कुछ खतरे में हैं. काश हम इसे झुठला सकते.”


उन्होंने अमेरिका भारत व्यावसायिक परिषद् की वार्षिक ‘इंडिया आइडियाज समिट’ के मुख्य सत्र को संबोधित करते हुए यह कहा.उन्होंने कहा, ‘‘पीएलए द्वारा हाल में शुरू की गई झड़पें सीसीपी के अस्वीकार्य व्यवहार के नवीनतम उदाहरण हैं. भारतीय सेना के 20 जवानों की इसमें मौत होने पर हमें गहरा दुख है. मुझे विश्वास है कि अपने लगातार प्रयास से हम अपने हितों की रक्षा कर सकते हैं.”पूर्वी लद्दाख में पांच मई से वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारत और चीन की सेना के बीच कई इलाकों में गतिरोध जारी है. स्थिति पिछले महीने और खराब हो गई, जब गलवान घाटी में संघर्ष में 20 भारतीय सैनिक मारे गए.


पोम्पियो को टिप्पणी अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के उस बयान के एक दिन बाद आई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि क्षेत्र में चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की आक्रामक गतिविधियां अस्थिरता पैदा करने जैसी हैं. पोम्पियो ने हाल में 59 चीनी मोबाइल ऐप को प्रतिबंधित करने के भारत के निर्णय की सराहना की जिसमें टिकटॉक भी शामिल है. उन्होंने कहा कि ये भारत के लोगों के लिए गंभीर सुरक्षा खतरा हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि ‘‘हिंद-प्रशांत और पूरी दुनिया में भारत, अमेरिका का उभरता रक्षा सहयोगी है.”


उन्होंने स्वीकार किया कि भारत की सुरक्षा के लिए अमेरिका कभी भी ज्यादा सहयोगात्मक नहीं रहा है. उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली एक महत्वपूर्ण साझेदार है और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की विदेश नीति का मुख्य स्तंभ है. उन्होंने कहा , ‘‘हम यह सुनिश्चत करने के लिये मिल कर काम करेंगे कि विश्व बौद्धिक संपदा संगठन का चुनाव कोई ऐसा देश जीते जो संपदा अधिकारों का सम्मान करता है. यही मूल बात है. ”पोम्पियो ने इस बात का जिक्र किया कि अमेरिका, भारत, जापान और आस्ट्रेलिया की सदस्यता वाले तथाकथित समूह को पुनर्जीवित किया गया है.


उल्लेखनीय है कि दक्षिण चीन सागर में चीन के वर्चस्व स्थापित करने की कोशिशों को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तकरार चल रही है. पोम्पियो ने इस बात का भी जिक्र किया कि अमेरिका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अगले जी-7 सम्मेलन में आमंत्रित किया है जहां आर्थिक समृद्धि नेटवर्क को आगे बढ़ाने पर विचार किया जाएगा. उन्होंने कहा कि भारत के पास मौका है कि वह वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को अपनी ओर आकर्षित करे और चीनी कंपनियों पर दूरसंचार, मेडिकल आपूर्ति तथा अन्य क्षेत्रों में उनकी निर्भरता को घटाए. उन्होंने कहा, ‘‘भारत इस स्थिति में है क्योंकि इसने अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों का विश्वास जीता है.”उन्होंने कहा कि अमेरिका भारत के साथ अपने संबंधों के एक नये युग की आकांक्षा रखता है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

%d bloggers like this: