गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प खुफिया तंत्र की नाकामी नहीं : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प खुफिया तंत्र की नाकामी नहीं : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प,जिसमें 20 भारतीय जवानों ने अपनी जान गंवा दी, में ”इंटेलिजेंस फेल्यर जैसी कोई बात ही नहीं है .” रक्षा मंत्री ने यह बयान भारत-चीन सीमा मुद्दे पर रखी सर्वदलीय बैठक में दिया जिसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री मोदी कर रहे थे. बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूछा था कि क्या कोई इंटेलिजेंस फेल्यर हुआ था ?

यह भी पढ़ें

सोनिया गांधी ने पूर्वी लद्दाख में चीन द्वारा “घुसपैठ” से निपटने पर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र ने समय गंवा दिया, सरकार सभी रास्तों का उपयोग करने में “विफल” हुई जिसके परिणामस्वरूप गलवान घाटी में हिंसक झड़प में 20 सैनिकों की जान चली गई. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि विपक्षी दल और लोग अभी भी इस झड़प के कई महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में अंधेरे में हैं. बैठक में भाग लेने वाले नेताओं में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल रहे.

बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा उपस्थित थे. प्रधानमंत्री और नेताओं ने पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में जान गंवाने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि भी दी.

15 जून को पूर्वी लद्दाख में पीछे हटने की प्रक्रिया के दौरान चीनी सैनिकों द्वारा एकतरफा कार्रवाई में दोनों पक्षों के सैनिक आमने-सामने आ गए.  भारतीय इंटरसेप्ट से पता चला है कि हिंसक झड़प में चीनी पक्ष के 43 जवान हताहत हुए हैं.

सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने कहा – पूरा देश वीर जवानों के साथ खड़ा है



Source link

%d bloggers like this: